livedosti.com

बच्चे के लिए आश्रम में रंगरलिया – भाग ३

मैं पेट के बल लेती थी. मेरा पीठ और उभरी गांड उसके सामने थी. मुझे बहुत शर्म आ रही थी. उसके पहले कभी किसी के सामने नंगी नहीं हुई थी मैं. सिवाए मेरे पति के. पर अब, बच्चे के लिए सब कुछ कर रही थी.. कला ने मेरे पीठ पर तेल लगे और हलके हाथ से मालिश करने लगी… कुछ देर उसने मेरे पीठ की मालिश की, फिर पैरो की मालिश करने लगी..

My sweet lover Nancy

I am Devji. I am the only son of my parents. My family was a very wealthy family and I was brought up with good qualities. Health and wealth molded me with very good personality. When I was just in … Read more

Amazing Gay Threesome Sex

I fear no social structure or consequences, so I can narrate these real life incidents in my life that have constructed my memories of gay threesome sex story. If you have read my earlier stories then you might know that … Read more