livedosti.com

बच्चे के लिए आश्रम में रंगरलिया – भाग ३

मैं पेट के बल लेती थी. मेरा पीठ और उभरी गांड उसके सामने थी. मुझे बहुत शर्म आ रही थी. उसके पहले कभी किसी के सामने नंगी नहीं हुई थी मैं. सिवाए मेरे पति के. पर अब, बच्चे के लिए सब कुछ कर रही थी.. कला ने मेरे पीठ पर तेल लगे और हलके हाथ से मालिश करने लगी… कुछ देर उसने मेरे पीठ की मालिश की, फिर पैरो की मालिश करने लगी..

Buxom wife gets naughty

Hello fellow lovers of Indian desi sex stories. I am back with another erotic story about my buxom wife, Mansi. I am pretty sure you have already read her previous sexual adventures with our Muslim servant Ashraful and his friends … Read more